Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
24 Aug

आज की धड़कने.......... (IV)

Published by Sharhade Intazar Ved

आज की धड़कने.......... (IV)

सुबह तेरे रंगों में से रंग अपने ले रहा हूँ,
ख्वाब जो पूरा ना हुआ अधूरा ही तुझे मैं दे रहा हूँ,
कहते हैं तू लौटा देती है मुकम्मल करके,
झोलियाँ तेरी आबाद रहे दुआएं ये मैं दे रहा हूँ

वो आजमाते हैं उस यकीन की हद तक,
जँहा पहुंचकर भरोसे टूट जाया करते हैं ,
देख कर लगता है बिसात बिछा रहे है वो,
मुझे शायद मोहरों सा आजमाया करते हैं

गैरों पे करम का सबब है हमसे रूठ जाना,
दर्द जब हद से गुजरने लगे तब करीब आना,

तेरे दीदार को तरसती आखों को सकूँ आ जाए,
याद करूँ तुझे और रूबरू तू आ जाए,
लफ़्ज़ों से तुझे सजाना तो चाहता हूँ मगर,
तू सजने बैठे और लफ़्ज़ों को भी सकूँ आ जाये,

जब भी गुजरा हूँ मैं भीड़ में तन्हा होकर,
एक अजीब सी हलचल को भी है तन्हा पाया,
वो जो देख रहा था मुझे गुजरते हुए,
हंस तो नहीं पाया था जब मैं था मुस्कराया,

रात तुझमे मैं समाने से पहले,
दोस्तों से विदा लूँ नींद आने से पहले,
दुआएं दूँ दुआएं लूँ ख्वाब आने से पहले,
चलो सो जाते हैं शाम के मुस्कराने से पहले

Comment on this post

anil juneja 08/30/2015 08:41

very nys sir

प्यार के वास्ते प्यासा है ये दिल सदियों से ,
अब तो बरसो आके सावन की घटाओं की तरहे !
ख्याल करो कुछ तो ,ऐ रहनुमाई के अम्बर ,
कहीं जलता न रह जाऊं ,सुलगती रख की तरह

ved 08/30/2015 11:09

bahut khoob Anil ji shukriya

monika 08/26/2015 10:24

मुमकिन ही नही है ये की कोई खता हो कभी आप से
क्योकि आप का तो दूर-दूर तक नाता ही नही है खताओं से
आप का तो फक्त नाता है दुआओं से ,दुआओं से , और बस दुआओं से .

सहदे इंतज़ार वेद जी सुप्रभात , शुभ दोपहरिया ,शुभ साँझ ,शुभ रात्रि ,शुभ दिवस
सर वो इन बॉक्स ख़राब होने के कारण न कोई सन्देश आ पा रहे हैं और ना ही सन्देश जा पा रहे है इस लिए मै आप की good morning का जवाब नही दे पायी। असुविधा के लिए खेद है

ved 08/26/2015 17:39

ohh, ye bat hai tab koi bat nahi ji , Aaapki tarifon ke liye shukrgujar hun ji

monika 08/25/2015 13:20

बेहतरीन अलफाज़, बहूत खूब ।,,,....सुभान अल्लाह !!! -----वाह आप बहुत खूब लिखते है
बेहद उम्दा.........बहुत लाजवाब वाह अविस्मरणीय

ved 08/25/2015 21:39

shukriya Monika ji aap hamare inbox men gd morning kaa kabhi reply nahi dete hain koi khata ho gyi kya hamse

ekta 08/25/2015 10:32

बेहद प्रभाव शाली

ved 08/25/2015 21:40

Shukriya Ekta ji