Overblog Follow this blog
Administration Create my blog

बचपन जाने...... ना पाये

बचपना जवान हो चूका पर बचपना तो है, करतें हैं नादानियाँ हमने सुना तो है, वो गया वक़्त भी देख कर हमें मुस्कराता होगा, जो था बचपन का दोस्त अब हमनवां तो है, कभी कभी गुजरता है वो वक़्त बचपन का अब भी, राहों पर जब हमने फिर खेले हैं कंचे, तुमने सुना तो है, अभी...

Read more

गणेशा तेरे .......स्वागत में

वो कहते हैं अब ना वफ़ा का जिक्र होगा, ना वफ़ा की बात होगी, जिससे भी मोहब्बत होगी , गणेशउत्सव के बाद होगी, वो नादान नहीं जानते,दोस्त, वफ़ा का जिक्र भी होगा, मोहब्बत की बात भी होगी, गणेशउत्सव से होगी वफ़ा, मोहब्बत गणेशा के साथ होगी

Read more

खुद से कारवां........ तक

मैं जब खुद से कारवां हो गया, तन्हा ना रहा गुलिस्तां हो गया, जिसने समझा था कभी मुझे बेबस ,आज उसके लिए मैं एक निशा हो गया पहले गुजरता था पगडंडियों से मैं, आज सुलगती राहो का मैं समाँ हो गया, कभी जब खुद को अकेला पाये इंसा, किसी बेहतर कारवां से खुद को मिलाये...

Read more

आज की धड़कने ........ (Xii)

हम बेवफाई भी वफ़ा के साथ करते हैं, गर फना हो जाए कोई तो ही जफ़ा करते हैं, ऐसा नहीं के मतलब से ही ढूंढा गया हो आपको, बेमतलब बिताया वक़्त शायद याद नहीं आपको, बेवफाई का इश्तहार मैंने लगा तो दिया है, खाली ना चला जाए तभी अपना नाम दिया है, इलज़ाम सहने की तो अपनी...

Read more

बदलते रंग....... इश्क के

ये शरारत की अदा देखि ना गयी मुझसे, कहो तो गुस्ताख़ होकर शरारत करूँ कोई, आपकी आँखे हसीं तो हैं ही, और हंसी हो जाएंगी कहो तो अश्क भरू कोई जो मुस्कराहट लबों पर दर्द छुपा कर आती है, उसकी तस्वीर दर्द बोलती जाती है, ख़ुशी में मुस्कराती तस्वीर की एै दोस्त, हर...

Read more

ज़िन्दगी के अफ़साने .........

खुश तो कम ही मिलेंगे जमाने से, शायद थक गए हो निभाने से, कुछ शिकवे भी होंगे ज़माने से, बात बन जायेगी दो कश लगाने से, एक ज़िन्दगी का हो दूसरा दोस्ती का, थोड़ा जाम गम का हो थोड़ा ख़ुशी का, चल यार अब दिल्लगी छोड़ भी दे बहाने से, आ नींद से सुबह मांग लें ठिकाने से...

Read more

आज की धड़कने........ (XI)

तेरे अल्फ़ाज़ों को कोई शायर भी बना देगा सब्र रख, किसी को बना अपना ज़रा अपने हुस्न पर भी नज़र रख, जब कभी जिक्र दोस्त तेरे अश्कों का होगा, दर्द तेरा तू मान ले कुछ हमने भी सहा होगा, आजमाइश आपकी नहीं हम खुद की कर रहे हैं, धोखे से ही सही जज्बातों की माला बुन रहे...

Read more

जो कहते हैं ज़िन्दगी....... अब वतन है

वतन की मोहब्बत से दोस्त जब तू अपनी मोहब्बत मांग लेगा, उस दिन तुझे हर पहचानने वाला अपने मेहबूब का शायर कहेगा उसकी ज़िन्दगी बन जाओ जिसकी ज़िन्दगी वतन हो, फिर मिल के बिखर जाओ जन्हा तक जीवन का सफर हो गर ज़िन्दगी तेरी वतन है तो सांसों में रहता वजन है, जब तमन्ना...

Read more

आज की धड़कने ....... (X)

भोर आज की कुछ दर्द ले तो आई है, पर सूरज की किरणे दुआएं साथ भी लायी हैं, किसी दोस्त की सुबह ना कभी ग़मज़दा हो, आपके दिन का पल पल खुशियों से भरा हो मजहब जिनका वतन है पहचान ले लेते हैं, सर आँखों पर रखते हैं दिल से नाम ले लेते हैं जो वतन के होते नहीं धर्माधिकारी...

Read more
<< < 1 2 3 4 > >>