Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
07 Sep

बदलते रंग....... इश्क के

Published by Sharhade Intazar Ved

बदलते रंग....... इश्क के

ये शरारत की अदा देखि ना गयी मुझसे,

कहो तो गुस्ताख़ होकर शरारत करूँ कोई,

आपकी आँखे हसीं तो हैं ही,

और हंसी हो जाएंगी कहो तो अश्क भरू कोई

जो मुस्कराहट लबों पर दर्द छुपा कर आती है,

उसकी तस्वीर दर्द बोलती जाती है,

ख़ुशी में मुस्कराती तस्वीर की एै दोस्त,

हर ख़ुशी तर्स्वीर बयां कर जाती है

Comment on this post

MANJU 12/17/2015 14:34

WAAHHHH

Ekta 09/14/2015 18:19

Sarvotam ...

ved 09/16/2015 20:50

शुक्रिया मित्र

Om prkash 09/09/2015 01:24

Ye shrart ki ada dekhi na gyi mujh se
Kaho to gustaakf ho kr shraart kru koyi
Waah kyaa likha hai .romaanchak
Chhaa gye jnaab chha gye

ved 09/09/2015 17:35

shukriya Om ji

monika 09/08/2015 14:05

thank u ji
kya hua aaj likhna hi bhool gye ya
likhna hi chhod diya