Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
29 Aug

प्रेम ......पांति

Published by Sharhade Intazar Ved

प्रेम ......पांति

प्रेम के हो जाने से लिखे जाने तक,
अश्क के बहने से मुस्कराने तक,
इंतज़ार के लम्हों को मुकम्मल पाने तक,

धड़कनों के राग बदलते जाते हैं,

दिलों की बस्तियों पर सहर आने तक,
बीत जाती है उम्र लौट कर घर आने तक

चंद दिनों में जीता है एक उम्र हर एक,
मुहब्बत बदलती जाती है आखरी ठिकाने तक

Comment on this post

0m prakash 09/05/2015 05:46

slaam Sharhade Intazar Ved ji
Behatrin andaaz e bayan. kmaal ka likhto ho aap to .
meri or se krishan jnmashatmi ki bahut -bahut shubhkaamnaaye aap ko...

ved 09/06/2015 08:32

SHukriya Om Bhai aapko bhi shubhkamnayen

manju 08/31/2015 12:32

laajwaab ...

ved 08/31/2015 19:33

thanks Manju ji