Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
18 Aug

इश्क के........ अरमान

Published by Sharhade Intazar Ved

इश्क के........ अरमान

उम्र मेरे इश्क की कम करता नहीं खुदा,
झोलियाँ मुरादों से भी भरता नहीं खुदा,

सुना है के शख्सियत बनाने में महारथ है तुझे,
तेरे हुनर का रंग मुझमे क्यूँ दीखता नहीं जुदा,

इश्क में बातों से दीदार तक की हसरत,
होती सबको है
तो क्यूँ वो मुलाकात रखता नहीं खुदा,

तमन्ना थी के वो कभी खुल कर कुछ कहें,
जाने लफ्ज़ कैद थे या हम सुन ना पाये सदा

Comment on this post

ekta 08/25/2015 10:39

शब्द नहीं बयाँ करने लायक इतनी बेहतरीन ग़ज़ल जो आपने प्रस्तुत की है।

ved 08/25/2015 21:31

shukriya Ekta ji

ajay kumar 08/22/2015 16:32

कला की उच्चतम ऊंचाई छूती खूबसूरत , यादगार ग़ज़ल.....

ved 08/23/2015 16:59

Tahe dil se Sukriya Ajay Bhai

om prakash 08/20/2015 14:03

sir mujhe lgta hai aap is topic pr or desh bhakti pr bahut achha likhte hai ,aap ko inhi do vishyo pr jyada likhna chahye.... aap ki isi prkar ki agli post ke intzaar me Intazar ji aap ka dost Om

ved 08/20/2015 18:07

ji Jarur Om Bhai pura prayas rahega ji

om prakash 08/20/2015 13:59

slaam Sharhade Intazar Ved ji - aap ki ab tk ki likhi huyi gazalo me se sbbbbbbbbb se achhi gzl ek -ek sher ,ek ek line , ek ek shabd bahut hi sunder ...wah ,wah

ved 08/20/2015 18:08

tahe dil se shukriya Om Prakash bhai