Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
14 Aug

आज़ाद वतन

Published by Sharhade Intazar Ved

आज़ाद  वतन

आज़ाद वतन है हर साँस वतन है,
आवाम को तिरंगे का ेअहसास वतन है,
शहीदों ने जिसे लहू से सींचा वो खास वतन है,
हर एक का अपना अपना योगदान रहा है,
कोई विद्या से निभाता, कोई माटी अन्न उगाता,
कोई सीना छलनी करता, कोई सर कफ़न हो जाता,,
वीरों की भूमि है ये तब ही तो आज़ाद वतन है,
आओ आज वचन दें खुद को मजबूरों के आंसू पोछेंगे,
माँ भारती की मुस्कान की खातिर क़तरा क़तरा साँस वतन है.
आज़ाद वतन है, हर साँस वतन है

जय हिन्द, वन्दे मातरम

Comment on this post

ekta 08/25/2015 10:40

अतुलनीय अद्वितीय अनुपम

ved 08/25/2015 21:34

shukriya ji ekta ji

0m prakash 08/21/2015 12:17

वन्दे मातरम

ved 08/21/2015 18:27

Shukriya Om Bhai

ekta 08/16/2015 02:40

अनेकता में एकता ही हमारी शान है,इसलिए मेरा भारत महान है !
bahut sunder rachna

ved 08/21/2015 18:28

Shukriya Ekta ji

madhu 08/15/2015 07:15

Jai hind jai bharat

ved 08/15/2015 08:24

Jai hind Jai Bharat