Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
13 Aug

बसेरा .......... दिलों में

Published by Sharhade Intazar Ved

बसेरा .......... दिलों में

किसी का दिल में उतर जाना,
किसी का दिल से उतर जाना,

ये मंज़र जुदा जुदा हैं ,
जिन्हे फकत आशिकों ने हैं जाना,

है दुनिया के भी दस्तूर यही,
किसी को दिखावे में है जीना,
किसी को सच का ही है जाम पीना,
ज़िन्दगी ने दोस्त मगर हर एक को पहचाना,
किसी का दिल में उतर जाना,
किसी का दिल से .................

Comment on this post

ekta 08/16/2015 02:44

behtrin ~~~~~

रिश्तों के यही उसूल हैं
बातें भूलिए जो फिजूल हैं

manju 08/15/2015 14:25

किसी का दिल में उतर जाना,
किसी का दिल से उतर जाना, ......ये मंज़र जुदा जुदा हैं ,---------bahut khoob

mudit mishra 08/14/2015 03:32

Hai bechare aashik
Bahut khoob .waah kya baat hai

ved 08/14/2015 17:53

Sukriya Mudit ji

madhu 08/13/2015 18:28

Wah wah

ved 08/14/2015 17:54

Thanks Madhu ji