Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
11 Aug

तन्हाइयों की दास्ताँ

Published by Sharhade Intazar Ved

तन्हाइयों की दास्ताँ

पहचानता हूँ शहर को फिर भी क्यूँ अनजान हूँ,
रास्तों से गुजर चूका हूँ भूल चुका नादान हूँ ,

कुछ दूर चलता हूँ कारवां संग,

फिर खुद को तन्हा कर के घूमता वीरान हूँ,

महफ़िलों में दखल मेरा फिर भी मैं सुनसान हूँ,

बहलाता हूँ मैं दिल सभी का,
खुद का पर दिल ना बहले इसलिए हैरान हूँ
खुदमे मैं खुद खड़ा हूँ अपने लिए मेहमान हूँ,

Comment on this post

ajay kumar 08/23/2015 17:08

Never search your happiness in others, it will make u feel alone. Search it in yourself you will feel happy even when you are left alone.....kabhi bhi apni khushiya dusro me mt dundo ,ise apne ander hi dundo chahe tum akele hi kyo na ho ....

manisha 08/12/2015 17:03

ये दुनिया का जो मेला है,

यंहा हर एक मिलता अकेला है,

कहने को तो महफ़िल भी है,

महफ़िल में तन्हा एक दिल भी है,..................................
bahut khoob Sharhade Intazar Ved ji pr thoda sa kuchh bdlaaw krna chahu gi
महफ़िल में तन्हा एक दिल भी है,........ki bjaaye mehfil me tanha hr dil hai
aajkl jo mehfilo malls baajaro me jaane ka chalan bd gya hai uska kaarn insaan ka akelapn hi to hai ,insaan aaj apne akele pn ko door krne k liye hi to vaha jaane lga hai pehle joint families hoti thi koyi apne ko akela mehsoos hi nhi krta tha lekin aaj insaan insaan se hi kt ta ja raha hai....khair bahut khoob likha aap ne ...salute to u

ved 08/12/2015 18:53

so nice manisha ji har dil hi hona chaiye thanks

manisha 08/11/2015 17:58

Aagar kisi ki yaad aye to
ek Chand ko dekh lena
ye soch k nahi k kubsoorat hi kitna
ye soch kar k
hazaroon sitaron may tanha hai kitna

ved 08/12/2015 07:51

ये दुनिया का जो मेला है,
यंहा हर एक मिलता अकेला है,
कहने को तो महफ़िल भी है,
महफ़िल में तन्हा एक दिल भी है,
मिलता नहीं अब वो जो इस दिल से खेला है,
जिसने लगा रखे हैं नकाबों पे नकाब,
वो असली चेहरा भूल चूका ये भी एक झमेला है,
सोचता है के कारवां है साथ,
पर खुद में तो बड़ा अकेला है,
ये दुनिया का जो मेला है

manisha 08/11/2015 19:25

ye dunia ik mela hai
fir bhi yaha hr koyi akela hai..
bemaane hain rishte naate
yaha kon kisi ka hota hai.......... kaisa raha ?

manisha 08/11/2015 19:16

ye dunia ik mela hai
fir bhi yaha hr koyi akela hai..
baaki ka aap pura kr de pls Sharhade Intazar Ved ji

ved 08/11/2015 18:07

chand jeeta aasma par main hun jeeta es jami par,
uske sath hain seetare main akela gujarta kanhi par