Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
11 Aug

चलो खुदाई का दर सजालें

Published by Sharhade Intazar Ved

 चलो खुदाई  का दर सजालें

गुजर जाना हर हद से खुदाई के तरानों में,
ज़माने लग जाते हैं दोस्त, खुदा का दर सजाने में,

सजा ले कोई भी दैरो - हरम तो क्या होगा,
इबादत में लिखे लफ्ज़ गुनगुना ले तो क्या होगा,

मज़ा तब है जब लफ्ज़ निकले खुदा की याद आने में,
ऐसी सजावट है मिलती खुदा के ही दीवाने में,

इंसा जब इंसानियत से गुजरता जाता है,
तब जाके खुदा उसके जहन के करीब आता है,

फिर तो मौला ही जाने इंसा गाता है के खुदा गाता है,
इस तरह सज जाता है दर खुदाई का ज़माने में

Comment on this post

ekta 08/25/2015 10:43

शब्दों के जादूगर हैं आप तो। वाह क्या जादूगिरी की है आप ने

ved 08/25/2015 21:35

Jee aapki tarif ke ham kayal hain ji Ekta ji

ajay kumar 08/23/2015 17:05

सहमत

anil juneja 08/12/2015 17:21

waah kya baat hai ..kya baat hai..kya baat hai ...shabd nhi mil rahe is umda rachna ki taarif k liye
Sharhade Intazar Ved ji bahut khoob likha aap ne ab tk kaha the aap..?

ved 08/12/2015 18:57

thanks Anil Bhai aapne saraha hamare shabdon ko udan mil gayi Tahe dil se shukriaaa aapka

rajni gulia 08/11/2015 14:48

ab tujhi me smaane ko jee chahta hai
tujh me mil jaane ko dil chahta hai ye hakikat hai ki tu aaftaab hai gagan ka
mera bs ek kiran bn jaane ko jee chahta hai

ved 08/11/2015 18:02

bahut khoob rajni ji sundar

imraan 08/11/2015 10:33

इंसा जब इंसानियत से गुजरता जाता है,
तब जाके खुदा उसके जहन के करीब आता है,
waah kya jaadu hai aap ki klm me jnaab

ved 08/11/2015 18:01

shukriya Imran Bhai