Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
09 Aug

इश्क की मुलाकातें

Published by Sharhade Intazar Ved

इश्क की मुलाकातें

चाहत में यादों की बसर तो हो ही जाती है,
नशे में मोहब्बत के खुमारी हो ही जाती है
,

धड़कता है दिल ेऐसे उनके रूबरू होने पर,
हर धड़कन फकत उनको ही गुनगुनाती ह
ै,

मगर जब वो लौटने की बात करते हैं,
दिल डूबने लगता है उदासी छा सी जाती है
,

फिर वो मुस्करा कर करते हैं वादा मिलने का,
तबियत उनकी इस अदा पर मचल सी जाती ह

Comment on this post

ajay kumar 08/23/2015 16:55

बेमिसाल अल्फ़ाज़

om prkash tiwari 08/15/2015 18:53

दिल तोड़ने वाले को सजा क्यों नही मिलती.
हर किसी को मोहब्बत करने की दुआ क्यों नही मिलती.
लोग कहते है इश्क तो एक बीमारी है.
तो फिर मेडिकल स्टोर में इसकी दवा क्यों नही मिलती.*.
bahut khoob --
धड़कता है दिल ेऐसे उनके रूबरू होने पर,
हर धड़कन फकत उनको ही गुनगुनाती है,
waah kyaa baat hai..

anil juneja 08/11/2015 14:38

sir aap k blog ki ghadi sahi samay nhi dheekha rahi pls iska samay theek kr le
prmatma se prarthna he vo aap ka samay hamesha sahi or achha rakhe
bahut shaaandaar jaandaar zabardaast likhte ho aap ..waah kyaa baat hai

anil juneja 08/11/2015 14:34

kabhi dard de jaate ho ,
kabhi khwaab
kabhi aahen de jaate ho ,
kabhi yaad itna to kabhi btakr mujhe chale jaate
ye mera dil hai ,tum ne ise samjha kya hai

manju 08/10/2015 12:36

bejod shayri