Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
09 Aug

बरसते बादल

Published by Sharhade Intazar Ved

बरसते बादल

बादलों की टोलियां आसमान से ही आती है,
बूंदें बरसातों की रह रह के गुनगुनाती हैं
,

धरा चल थोड़ा तुझको भिगालें हम,
हलकी चले पवन तो पत्ते पत्ते को सजा लें ह
म,

बूंदें जो ठहर गयी पेड़ों की शाखों पर,

ज़मी के कुछ जर्रों की प्यास बुझा जाती हैं
जाने सहरा में कहा बरसातें समा जाती हैं
बादलों की टोलियां आसमान से ही आती ह
ैं

Comment on this post

ajay kumar 08/23/2015 16:55

खूबसूरत

manju 08/10/2015 12:19

waah kyaa baat hai

urmila 08/10/2015 12:18

Dharti se sawan ki bundein milne jab bhi aati hain,
Uski shikayat karti hain kuchh apna dard sunati hain.
Kuchh rishte naye banati ehsaas naya de jati hain,
Har ek kali ko phool baag ko gulshan kar jati hain.
Chahat nayi si hoti hai armaan naya de jati hain,
Kuchh khushi ke pal kuchh muskan nayi de jati hain.

madhu 08/10/2015 11:31

Bahot khub.....

anju aanad 08/10/2015 10:29

waah bahut khoob ...........kya baat hai